Skip to main content

दि.वि.प्रा. एक नजर में

  • हम बदलते समय की जटिल जरूरतों का आकलन करते हैं। हम दिल्ली के भविष्य के लिए संकल्पना करते हैं, योजना बनाते हैं और उस पर काम करते हैं। दिल्ली विकास प्राधिकरण ने सन् 1957 में इसकी स्थापना के बाद से, ही इस शहर में विकास कार्यों का उत्तरदायित्व सम्हाला हुआ है। सन 1962 में दि.वि.प्रा. द्वारा एक मुख्य योजना तैयार की गई थी, जिसमें पहले से ही सुविधा सम्पन्न क्षेत्रों में नए आवासीय विस्तार क्षेत्रों का निर्माण करके दिल्ली का संतुलित विकास सुनिश्चित कर एक स्वस्थ और सुरक्षित वातावरण प्रदान किया गया। सन् 1982 में इस योजना में संशोधित किया गया था और अब दि.वि.प्रा. इस दशक के अंत तक अपनी व्यापक “दिल्ली मुख्य योजना 2001” के साथ 128 लाख की अनुमानित आबादी की जरूरतों को समायोजित करने की चुनौती को पूरा करने के लिए तैयार है।

हम आपकी हर जरूरत को पूरा करते हैं। चाहे यह आवासीय, वाणिज्यिक, औद्योगिक, बागवानी, संस्थागत या मनोरंजक हो। दि.वि.प्रा. में भवन निर्माण एक अंतहीन प्रक्रिया है।

दि.वि.प्रा. ने अब तक 67354.88 एकड़ भूमि का अधिग्रहण किया है जिसमें से 59504 एकड़ भूमि का विकास किया जा चुका है।

  • 30713.95 एकड़ भूमि आवासीय उद्देश्यों के लिए विकसित की गई ।
  • 3250.45 एकड़ औद्योगिक उद्देश्यों के लिए विकसित की गई ।
  • 8890.70 एकड़ बागवानी उद्देश्यों के लिए विकसित की गई ।
  • 110512.73 एकड़ सरकारी एवम्‌ अर्ध सरकारी तथा अन्य संगठन के लिए सार्वजनिक सुविधाएं प्रदान करने हेतु विकसित की गई ।
  • 6583.31 एकड़ झुग्गी बस्ती और झुग्गी-झोपड़ी (एमसीडी) के लिए ।
  • 5806.15 एकड़ सहकारी समितियों (सीएचबीएस) के लिए ।
  • 281.91 एकड़ नरेला परियोजना 2 के 100 मीटर रोड के लिए ।
  • 14.38 एकड़ नरेला परियोजना के 80 मीटर रोड लिए ।
  • 87.50 एकड़ दिल्ली नोएडा ब्रिज में उपयोग के लिए ।
  • 1013.80 एकड़ भूमि दि.वि.प्रा. के पास शेष है ।

हम निवास स्थान के निकट ही सुविधाजनक और विकेन्द्रीकृत वाणिज्यिक स्थान तथा कार्यस्थल प्रदान करते हैं। दि.वि.प्रा. ने अब तक ये स्‍थल विकसित किए है:

  • प्रत्येक 10 लाख और उससे अधिक की आबादी के लिए शॉपिंग, वाणिज्यिक कार्यालयों, सिनेमाघरों, होटलों, अतिथि गृहों, सेवा उद्योगों, बस टर्मिनलों, टेलीफोन एक्सचेंजों, डाक तथा टेलीग्राफ कार्यालयों आदि के लिए स्थान वाले 7 जिला केंद्र।
  • 5 लाख तक की आबादी के लिए शॉपिंग, कार्यालय, सिनेमा होटल, सेवा उद्योग, डाकघर, औषधालय, साप्ताहिक बाजार आदि के लिए स्थान वाले 27 सामुदायिक केंद्र।
  • लगभग 50 हजार की आबादी के लिए खरीदारी, अनौपचारिक दुकानों, वाणिज्यिक कार्यालयों, सामुदायिक हॉल और पुस्तकालयों आदि के लिए 125 सुविधाजनक शॉपिंग सेंटर। एक लाख तक की आबादी की जरूरतों को पूरा करने के लिए शॉपिंग (खुदरा, सेवा, मरम्मत) और अनौपचारिक खरीदारी के लिए जगह वाले 429 स्थानीय शॉपिंग सेंटर।

  • शहरी भवन निर्माण के भाग के रूप में संस्थागत और औद्योगिक विकास हेतु ई-सुविधा, जो दिल्ली को अवसरों का नगर बनाती है। अब तक दि.वि.प्रा. ने विभिन्न संस्थानों को सामाजिक, शैक्षणिक, सांस्कृतिक और धार्मिक उद्देश्यों के लिए भूमि आवंटित की है। इनमें से कुछ ऐतिहासिक संस्थान सीरी फोर्ट, कटवारिया सराय, कुतुब संस्थानिक क्षेत्र आदि में हैं। इसके साथ ही, लगभग 12000 इकाइयों की जरूरतों को पूरा करने वाले विभिन्न औद्योगिक क्षेत्रों को शहर के सभी कॉनरों में विकसित किया गया है।

हम हरियाली की रक्षा करते हैं और व्यापक खुले स्थान और हरित पट्टियों और जंगलों को बनाए रखते हुए आपको एक स्वस्थ और स्वच्छ वातावरण प्रदान करते हैं। दि.वि.प्रा. ने पर्यावरण संरक्षण को हमेशा से ही प्राथमिकता दी है। आज दिल्ली दुनिया की सबसे हरी-भरी राजधानियों में से एक है। दि.वि.प्रा. ने 5050.97 हेक्टेयर हरित भूमि विकसित की है, यह दि.वि.प्रा. के अधिकार क्षेत्र में है जिसे इस रूप में विकसित किया गया है:

  • 4 क्षेत्रीय पार्क
  • 25 शहरी वन
  • 111 डिस्ट्रिक्‍ट पार्क
  • 225 क्षेत्रीय पार्क
  • 28 खेल के मैदान
  • 12 खेल परिसर

हम उन लोगों को खेल सुविधाएं प्रदान करते हैं जो शहर के विशिष्ट सामाजिक क्लबों में शामिल नहीं हो सकते हैं। निम्नलिखित सुविधाओं को विकसित करके दि.वि.प्रा. ने खेलों को दिल्लीवासियों के दरवाजे तक ले जाने के लिए ठोस प्रयास किए हैं:

  • दिल्ली के सभी क्षेत्रों में इनडोर और आउटडोर खेलों की सुविधा वाले 12 खेल परिसर।
  • आउटडोर खेलों की सुविधाओं वाले 28 व्‍यवस्थित खेल के मैदान।
  • सुबह टहलने वालों के लिए 20 फिटनेस ट्रेल्स।
  • स्वास्थ्य के प्रति जागरूक लोगों के लिए 16 मल्टीजिम।
  • लाडो सराय में एक 18 होल वाला पब्लिक गोल्फ कोर्स।
  • पूरी दिल्ली की विभिन्न कॉलोनियों में सैकड़ों असंगठित खेल के मैदान।

एक सुनियोजित शहर के रूप में दिल्ली का विकसित करते समय हम इसके प्राचीन गौरव को संरक्षित करते हैं। दि.वि.प्रा. यह सुनिश्चित कर रहा है कि आधुनिक विकास के चक्रव्यूह में राजधानी की अनूठी ऐतिहासिक विशेषता, इसकी परंपराएं और लोकाचार लुप्‍त नहीं हों।

यह अज्ञात जगहों को बेहतर तरीके से संरक्षित रखने में मदद करने के लिए अनुसंधान और प्रयास करता रहा है। सात शहरों की भूमि वाली दिल्ली में लगभग 1321 सूचीबद्ध स्मारक और कई इमारतें हैं जो इसकी परंपराओं और संस्कृति के बारे में बहुत कुछ बयां करती हैं।

पुराने भवनों के रखरखाव के लिए वर्ष 1993 में आरंभ किया गया 'डीडीए अर्बन हेरिटेज अवार्ड' उसी दिशा में एक प्रयास है जो आज भी कायम है।

दि.वि.प्रा. ने सन 1999 में "अर्बन हेरिटेज फाउंडेशन" का भी गठन किया है

हम आने वाली पीढ़ियों को सर्वोत्तम रहन-सहन प्रदान करने के लिए काम करते हैं। हमारी कुछ प्रमुख परियोजनाओं में सभी सुविधाओं से युक्त एक एकीकृत, स्वत:पूर्ण टाउनशिप बनाने की परिकल्पना की गई है। हमारी बड़ी परियोजनाओं में से एक है द्वारका:

  • यह लगभग 5648 हेक्टेयर क्षेत्र में फैला हुआ है, जिसमें से 20% को हरा भरा रखा जाएगा।
  • शहर के साथ उचित संम्पर्क व्यवस्था
  • विश्वविद्यालय परिसर, पुलिस स्टेशन, अस्पताल, स्कूल, मनोरंजनात्मक स्थान, वाणिज्यिक स्थान और घर बनाने वाली हर सुविधा के साथ एक स्वत:पूर्ण उप-शहर।

हम भविष्य की जरूरतों को पूरा करने के लिए आगे की सोचते हैं। सेक्टरों में नियोजित और शहर के उत्तर पश्चिमी भाग में स्थित रोहिणी, एक विस्तृत टाउनशिप है, यह 3497 हेक्टेयर में फैली हुई है। लगभग 10.1 लाख की आबादी के लिए सभी संसाधन और सुविधाएं प्रदान करने के लिए एक उप-शहर की योजना बनाई गई है।

हम निम्न और मध्यम वर्गीय इलाकों में रहने वालों के लिए खरीदारी को आसान बनाते हैं। दि.वि.प्रा. ने प्रत्येक कॉलोनी में जनता मार्केट के रूप में कुछ उपयुक्त स्थान विकसित किए हैं जहां सड़क पर अतिक्रमण करने वालों को दैनिक आधार पर निर्दिष्ट अवधि के लिए काम करने हेतु अस्थायी रूप से स्थान प्रदान किया जाता है। इससे ट्रैफिक जाम और पैदल चलने वालों को होने वाली असुविधा को रोकने में मदद मिलेगी। अब तक 30 स्थलों को चिन्ह्ति किया जा चुका है, जिनमें से पीतमपुरा में एक का निर्माण कार्य पूरा हो गया है और इसका संचालन शुरू कर दिया गया है। अन्य दो स्थानों पर पहले से ही काम प्रगति पर है और इस वर्ष के अंत तक 15 और स्थानों पर इसका विकास किया जाएगा।

हम पूरे शहर में फ्लाईओवरों के साथ नई सहस्राब्दी की शुरुआत करने का प्रस्ताव करते हैं जिससे शहर में भीड़-भाड़ कम होगी और इससे एक प्रभावी परिसंचरण प्रणाली प्रदान की जाएगी। ऐतिहासिक इमारतों, आधुनिक फ्लाईओवरों, आवासीय कॉलोनियों, सक्रिय वाणिज्यिक स्थानों के साथ असंख्य अवसरों वाला दिल्ली शहर लाखों लोगों का घर है और लाखों लोगों के लिए प्रेरणा और आशा है।

पहले चरण में 6 फ्लाईओवर पूरे किए जा चुके हैं, सातवां पूरा होने के अगामी चरण में है।

दूसरे चरण में निर्माण के लिए 7 और फ्लाईओवर लिए गए।

यह दि.वि.प्रा. की प्रतिबद्धता और समर्पण ही है कि इसने शहरीकरण और जनसंख्या के दबाव को झेला है,

जी हां, दि.वि.प्रा. गर्व से भारत की इस राजधानी का निर्माण करता है।

कार्यालय: विकास सदन, नई दिल्ली-110023. टेलीफोन: 011-24690431/24690435
पता फोन फैक्स ई-मेल
उपाध्यक्ष कार्यालय, बी-ब्लॉक, पहली मंजिल 24697900 24623968 vcdda@dda.org.in
वित्त सदस्य कार्यालय, बी-ब्लॉक, पहली मंजिल 24699107 24603278 fmdda@dda.org.in
अभियंता सदस्य कार्यालय, बी-ब्लॉक, पहली मंजिल 24692174 24624017 emdda@dda.org.in
प्रधान आयुक्त कार्यालय, डी-ब्लॉक, पहली मंजिल 24697813 24623034 pcdda@dda.org.in
प्रधान आयुक्त (एलएम, आवास, प्रणाली) कार्यालय, सी-ब्लॉक, पहली मंजिल 24633217 24633218 prncomnr@dda.org.in
प्रधान आयुक्त (सीडब्ल्यूजी) कार्यालय, बी-ब्लॉक, तीसरी मंजिल 24624487 24694538 pccwg@dda.org.in
मुख्य सतर्कता अधिकारी, बी-ब्लॉक, सातवीं मंजिल 24621489 24699436 cvo@dda.org.in
प्रधान आयुक्त एवम्‌ सचिव, कार्यालय, बी-ब्लॉक, चौथी मंजिल 24623598 24692962 commrcumsecretary@dda.org.in
आयुक्त(कार्मिक) कार्यालय, बी-ब्लॉक, भू-तल 24619946 246225661 commrpers@dda.org.in
आयुक्त(एल.डी.) कार्यालय, ए-ब्लॉक, पहली मंजिल 24698350 24692328 commrlnddisp@dda.org.in
आयुक्त(एलएम) कार्यालय, बी-ब्लॉक, तीसरी मंजिल 24622004 24627225 commrlndmanag1@dda.org.in
आयुक्त(आवास) कार्यालय डी-ब्लॉक, पहली मंजिल 24698958 24629517 commrhouse@dda.org.in
मुख्य विधि सलाहकार कार्यालय, ए-ब्लॉक, 6वीं मंजिल 24690841 24626748 cla@dda.org.in
निदेशक (एलसी) कार्यालय, बी-ब्लॉक, द्वितीय तल 24697851   dirlndcost@dda.org.in
वित्त सलाहकार(आवास) कार्यालय, डी-ब्लॉक, तृतीय तल 24698758 24646535 fah@dda.org.in
निदेशक (भूमि) कार्यालय, ए-ब्लॉक, प्रथम तल 24698783   dirland@dda.org.in